VPN Kya Hota Hai? VPN Kaise Use Kare No.1 Free Hindi Guide

VPN Kya Hota Hai

नमस्कार मित्रों, हम सभी इंटरनेट का उपयोग करते हैं और बहुत सारी वेबसाइट विजिट करते हैं और कई बार हमें प्राइवेसी और सिक्योरिटी से सम्बंधित समस्याओं, हैकर्स अटैक, सरकारी पाबंदियों और भी कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है, इन सबका एक उपाय VPN है, तो आइये जानते हैं कि VPN Kya Hota Hai और VPN Kaise Use Kare

VPN Kya Hota Hai-VPN का full form virtual private network होता है जो हमें एक गोपनीय और सुरच्छित इंटरनेट कनेक्शन उपलब्ध कराता है, हमारी प्राइवेसी और सुरच्छा को बढ़ाने के लिए हमारी IP को हैकर्स, ISP, और सरकार के द्वारा ट्रैक होने से बचाता हैं। VPN का उपयोग व्यावसायिक जगत में अपने काम करने वालों को सुरच्छा और गोपनीयता प्रदान करने के लिए ज्यादा किया जाता है।

अगर आप भी प्राइवेसी और सुरच्छा से सम्बंधित समस्याओं का सामना करते हैं और आप भी जानना चाहते हैं कि VPN Kya Hota Hai, VPN Kaise Use Kare, apne computer ya mobile me VPN kaise set kare, best free VPN kon sa hai, तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़े और आपको VPN से जुड़ी सारी जानकारी मिल जाएगी।

VPN Kya Hota Hai(VPN क्या है)

परिचय(Introduction)

हो सकता है कि आपने पहले VPN का नाम सुना हो या उसका उपयोग किया हो, पर क्या आपको पता है कि VPN का पूरा नाम क्या है VPN का full form होता है virtual private network जो हमें ऑनलाइन प्राइवेसी और सुरच्छा प्रदान करता है।

मूल रूप से वीपीएन का उपयोग व्यापार सेटिंग्स में बड़े व्यापारिक संगठनों या सरकारों द्वारा किया जाता था, जो अपने डेटा को सुरक्षित करना चाहते हैं क्योंकि लोग दूरस्थ रूप से काम करते हैं और उन्हें ऑनलाइन कनेक्ट करने की आवश्यकता होती है, व्यवसाय को एक सुरक्षित कनेक्शन बनाने की आवश्यकता होती है, अन्यथा उन्हें अपने डेटा की हैकिंग या हानि का सामना करना पड़ सकता है।

vpn, address, anonymous
फ्री इमेज फ्रॉम pixabay

आजकल वीपीएन का उपयोग हर कोई करता है क्योंकि यह सुनिश्चित करता है कि आपकी लोकेशन प्राइवेट रहेगा, आपका डेटा एन्क्रिप्ट किया गया है और आप गुमनाम रूप से इंटरनेट पर सर्फ कर सकते हैं।

VPN Kya Hai (VPN meaning in Hindi)

VPN का पूरा नाम वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क होता है और ये हमें एक गोपनीय और सुरच्छित इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करने के लिए काम करता है यह हमें और अधिक व्यक्तिगत और सुरच्छित कनेक्शन प्रदान करने के लिए हमारे IP एड्रेस को हैकर्स, ISP(इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स) और सरकार के द्वारा ट्रैक किया जाने से बचाता है।

VPN का उपयोग व्यापारिक संस्थाओं, सरकार, और गोपनीय एजेंसियों द्वारा अपने डाटा को सुरच्छित रखने और अपने कार्यकर्ताओं को ऑनलाइन सुरच्छा प्रदान करने के लिए ज्यादा किया जाता है।

अगर आप ब्लॉग्गिंग के बारे में नहीं जानते और जानना चाहते हैं कि Successful Blog Kaise Banaye Step By Step In Hindi Free Blogging Guide 2021 तो लिंक पर क्लिक करके आप हमारा यह पोस्ट पढ़ सकते हैं।

VPN की परिभाषा(Definition)

“वीपीएन एक निजी डेटा नेटवर्क है जो सार्वजनिक टेलीकॉमिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर (इंटरनेट) का उपयोग करता है, एन्क्रिप्शन का उपयोग करके गोपनीयता बनाए रखता है और उपयोगकर्ताओं को सुरक्षित रूप से जोड़ने के लिए प्रोटोकॉल और सुरक्षा प्रक्रियाओं की सुरंग बनाता है।”

“virtual” का अर्थ है कि दो नेटवर्क के बीच कोई भौतिक सम्बन्ध नहीं है, इसके बजाय कनेक्शन को इंटरनेट के माध्यम से रुट किया जाता है।

“private” का अर्थ है कि जो भी डाटा या जानकारी आदान-प्रदान की जाएगी वह गुप्त रहेगी (encryption and secured tunneling)

“network” का अर्थ है निजी, सार्वजनिक, वायर्ड, वायरलेस, इंटरनेट या उपलब्ध किसी भी संसाधन का उपयोग कर संचार माध्यम बनाना।

VPN से तात्पर्य virtual private network से होता है और यही इसका वास्तविक अर्थ है, VPN हमारे कंप्यूटर या किसी अन्य डिवाइस और इंटरनेट पर उपलब्ध किसी नेटवर्क के मध्य एक निजी और सुरच्छित संपर्क बनाने में हमारी मदद करता है और इसके लिए यह encryption और अन्य टेक्नोलॉजी का उपयोग करता है।

यह सुनिश्चित करने में आपकी सहायता करता है कि आपकी इंटरनेट गतिविधि हैकर्स, साइबर अपराधियों, या स्नूप से सुरक्षित है, जो सार्वजनिक वाईफाई का उपयोग करते समय आपके आसपास दुबके हो सकते हैं।

यहाँ हमने जाना कि VPN Kya Hota Hai आइये अब जानते हैं कि VPN कैसे हमें इंटरनेट के खतरों से बचता है/ VPN कैसे काम करता है।

इंटरनेट कैसे काम करता है (How Does Internet Work)

जब भी हम कोई वेबसाइट जैसे फेसबुक, ट्विटर सर्च करते हैं तो हम उसका डोमेन नेम सर्च करते हैं डोमेन नेम किसी भी वेबसाइट के IP एड्रेस का एक उपनाम होता है, IP एड्रेस हमारे घर के एड्रेस की तरह होता है जिसमे सिर्फ नंबर्स और लेटर होते है क्युकि किसी वेबसाइट को उसके IP एड्रेस के नंबर्स से याद रखना मुश्किल होता है इसीलिए उसे डोमेन नेम दिया जाता और फिर उस डोमेन नेम को सर्वर अपनी भाषा में ट्रांसलेट कर लेता है।

हम जो भी डिवाइस उपयोग करते हैं चाहे वह कंप्यूटर हो या मोबाइल सबका एक IP एड्रेस होता है और जब हम किसी ब्राउज़र से कुछ सर्च करते हैं चाहे वो कोई सा भी ब्राउज़र हो तो उससे हमारी जानकारी सर्वर तक जाती है और फिर सर्वर उस जानकारी के आधार पर मांगी गई इनफार्मेशन को निकालकर हमारे ब्राउज़र पर भेज देता है।

इंटरनेट के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए आप हमारा पोस्ट इंटरनेट क्या है(internet kya hai) और इंटरनेट कैसे काम करता है? no.1 Free hindi Guide पढ़ सकते हैं।

इंटरनेट का उपयोग करने की जोखिम

जब हम इंटरनेट उपयोग करते है और किसी वेबसाइट के लिए सर्वर पर रिक्वेस्ट भेजते हैं तो हम उस वेबसाइट के डोमेन नेम के साथ अपना IP एड्रेस और बहुत सी अन्य जानकारी भी भेजते है और यहीं से हैकर्स उस जानकारी को चुरा सकते हैं।

मान लीजिए आप कॉफ़ी शॉप में बैठे है और उनके पब्लिक Wi-Fi से इंटरनेट एक्सेस करते हैं और यदि आप उस नेटवर्क से अपने बैंक अकाउंट का बैलेंस चेक करते हैं तो उसी कॉफ़ी शॉप में कही बैठा हैकर उस नेटवर्क को एक्सेस करके आपकी सारी जानकारी जैसे ID, पासवर्ड, ईमेल और भी अन्य जानकारी आसानी से चुरा सकता है, पर यदि आप VPN का उपयोग करते हैं तो वह आपकी जानकारी को एक्सेस नहीं कर पाएगा।

VPN Kaise Kam Karta Hai (How Does VPN Work)

जब हम VPN का उपयोग करते हुए इंटरनेट का उपयोग करते हैं तो जब भी हम किसी वेबसाइट के लिए रिक्वेस्ट भेजते है तो वह रिक्वेस्ट पहले VPN के सर्वर पर जाती है फिर VPN का सर्वर उस रिक्वेस्ट को वेबसाइट के सर्वर पर भेजता है, वेबसाइट का सर्वर मांगी गई जानकारी को VPN के सर्वर को देता है और फिर VPN का सर्वर उस जानकारी को हमारे ब्राउज़र पर दिखाता है।

internet, hacking, computer
free image from pixabay

इस तरह VPN हमारे कनेक्शन को अधिक प्राइवेट और सिक्योर बनाने के लिए उसे गुप्त(एन्क्रिप्ट) बना देता है। इसे समझने का सबसे आसान तरीका यह है कि एन्क्रिप्शन का उपयोग करके, एक वीपीएन आपके इंटरनेट कनेक्शन के आसपास एक निजी “सुरंग” बनाता है, एक सुरंग जिसे कोई और ना हीं हैक कर सकता है, ना देख सकता है, और न ही उसमे घुस सकता है।

अब तक हमने जाना कि VPN kya hota hai और VPN kaise kam karta hai, आइये अब VPN के महत्व और उपयोगिता के बारे में जानते हैं।

अगर आप जानना चाहते है घर बैठे किसी के कंप्यूटर कैसे एक्सेस किया जा सकता है या अपनी बड़ी फाइल को कैसे भेज सकते हैं तो आपको जानना चाहिए कि TeamViewer Kya Hai (What Is TeamViewer)? Yah Kaise Kam Karta Hai इसके लिए आप इस लिंक पर क्लिक करके हमारा यह पोस्ट पढ़ सकते हैं।

VPN का महत्व (Importance Of VPN)

वेबसाइट को हमारा डाटा स्टोर करने से रोकता है

जो वेबसाइट आप विजिट करते हैं वो भी आपका डाटा स्टोर करती है पर वो उसे सिर्फ भौगोलिक जानकारी के तौर पर उपयोग करते हैं जिससे सामान्यतः कोई समस्या नहीं होती, पर कई बार ऐसा भी हो सकता है कि आप किसी वेबसाइट पर अपनी जानकारी ना देना चाहते हों और अपनी पहचान और निजता को गुप्त रखना चाहते हो तो इसमें VPN कैसे आपकी मदद करेगा

तो जब भी आप कोई जानकारी इंटरनेट पर भेजते हो तो VPN एक सुरंग बनाकर आपकी जानकारी को गुप्त बना देता है जिससे अगर कोई आपकी पूरी जानकारी किसी को दे भी दे तो भी कोई उसे पढ़ नहीं सकता। और सुरंग उस डाटा को हैक करना भी बहुत मुश्किल बना देती है, VPN यूज़ करने के बाद भी डाटा हैक हो सकता है पर VPN उसे हैक करना बहुत मुश्किल बना देता है।

VPN एक अतिरिक्त सर्वर जोड़ देता है

VPN हमारे नेटवर्क में एक अतिरिक्त सर्वर जोड़ देता है, हमने ऊपर आपको बताया था कि कैसे हमारी रिक्वेस्ट किसी सर्वर के पास जाती है और फिर वह वेबसाइट की जानकारी हमारे ब्राउज़र पर भेजता है, पर VPN उपयोग करने पर हमारी रिक्वेस्ट पहले VPN के सर्वर पर जाती है और फिर VPN का सर्वर उस रिक्वेस्ट को वेबसाइट के सर्वर के पास भेजता है।

यह एक एक्स्ट्रा सर्वर हमारी कई तरह से मदद करता है क्युकि ये हमारी लोकेशन भी बदल देते है और बहुत से वेबसाइट जैसे Netflix, Hulu पर ऐसी बहुत सी वीडियोस और कंटेंट होता है जो आपकी geolocation पर आधारित होता है।

मान लीजिए आप नेटफ्लिक्स पर अपना कोई पसंदीदा प्रोग्राम देखना चाहते हैं जो अमेरिका के नेटफ्लिक्स पर आता है पर आप जिस देश में हैं वहां पर वह प्रोग्राम उपलब्ध नहीं है तो आप VPN के अमेरिका के सर्वर को कनेक्ट करके उसे रिक्वेस्ट भेज सकते हैं और फिर VPN का अमेरिका का सर्वर वह रिक्वेस्ट Netflix को भेजेगा, नेटफ्लिक्स यह सोचेगा कि रिक्वेस्ट अमेरिका से आ रही है और आप अपना पसंदीदा प्रोग्राम देख पाएंगे।

लोकेशन को बदलना

VPN वेबसाइट को इस तरह से ट्रिक करता है कि उन्हें लगता है कि रिक्वेस्ट किसी और लोकेशन से आ रही है, क्युकि VPN के सर्वर की लोकेशन कहीं और की होती है और इस बदली हुई लोकेशन का फायदा आप ट्रैन और फ्लाइट की टिकट बुक करने में ले सकते हैं, क्युकि रिसर्च में यह देखा गया है कि ट्रैन और फ्लाइट के रेट लोकेशन के आधार पर अलग अलग होते है और इससे आप अपना बहुत सारा पैसा बचा सकते हैं।

VPN सरकार से हमारी जानकारी सुरक्षित रखता है

जैसा की हमने पहले बताया की वेबसाइट आपके IP एड्रेस और डाटा को स्टोर करती हैं तो गवर्नमेंट उनसे वो डाटा प्रोवाइड करने को कह सकती हैं और उन यूजर की IP को ट्रैक कर सकती हैं, पर यदि आप VPN का यूज़ करते हो तो आपकी लोकेशन सिर्फ VPN के सर्वर तक ही जाएगी और कोई भी आपकी लोकेशन ट्रेस नहीं कर पाएगा।

बहुत से VPN नो लॉग पॉलिसी यूज़ करते हैं मतलब आप कौन सी वेबसाइट विजिट कर रहे हैं वो इसका कोई रिकॉर्ड नहीं रखते, इससे यदि कभी सरकार उनसे यूजर का डाटा मांगती भी है तो उनके पास कोई डाटा नहीं होता जिससे वो यूजर तक नहीं पहुंच पाते।

वीपीएन वास्तव में बहुत काम के होते हैं क्युकि यह आपकी जियोलोकेशन को बदलकर, आपके डेटा को एन्क्रिप्ट करके और आपकी गोपनीयता सुनिश्चित करके वेब पर आपकी गोपनीयता को सुरक्षित रखता है, इसीलिए इन दिनों बहुत सारे लोग वीपीएन का उपयोग कर रहे हैं।

अगर आप नहीं जानते की हैकर कैसे हमारी जानकारी चुरा लेते हैं और उससे कैसे बचे तो आपको हमारा पोस्ट Phishing Kya Hai? Phishing Attack Se Kaise Bachen Free Hindi Guide 2021 जरूर पढ़ना चाहिए

VPN सर्विस कैसे चुने

VPN बहुत ही फायदेमंद और उपयोगी होते हैं क्युकि ये हमें इंटरनेट पर सिक्योरिटी और प्राइवेसी प्रदान करते हैं, पर यदि आपका VPN विश्वसनीय नहीं और आपको पर्याप्त सुरक्षा और गोपनीयता उपलब्ध नहीं करा सकता तो फिर ऐसे VPN को उपयोग करने का कोई मतलब नहीं है, इसीलिए हम यहाँ कुछ महत्वपूर्ण बातें बताने जा रहे हैं जो आपको VPN सर्विस चुनते समय ध्यान रखनी चाहिए।

  1. अपनी जरूरतों को समझें – VPN सर्विस लेने से पहले आपको अपनी VPN की जरूरतों को समझना होगा, कि आप किस उद्देश्य के लिए VPN सर्विस लेना चाहते हैं क्या आप सिर्फ वीडियोस देखना चाहते हैं या इंटरनेट पर सुरक्षा चाहते हैं आपकी VPN सर्विस आपकी जरूरतों को पूरा करने वाली होनी चाहिए।
  2. VPN की गुणवत्ता की तुलना करें – आप जो भी VPN लेने जा रहे हैं पहले उसकी क्वालिटीज़ और सर्विसेज को दूसरे VPN से कम्पेयर करके जरूर देखे इससे आपको एक अच्छी VPN सर्विस चुनने में बहुत आसानी होगी।
  3. अनुकूलता(compatibility) – किसी भी VPN सर्विस को खरीदने से पहले आपको चेक करना चाहिए कि जो VPN आप लेने जा रहे हैं वह अलग-अलग डिवाइस के साथ compatible है या नहीं।
  4. इंटरफ़ेस – जो भी VPN आप लेने जा रहे हो उसका इंटरफ़ेस यूजर फ्रेंडली होना चाहिए, डिफिकल्ट इंटरफ़ेस वाले VPN उपयोग करने में काफी मुश्किलें आती हैं।
  5. कवर्ड लोकेशंस – VPN सर्विस लेने से पहले आपको चेक करना चाहिए की उसमे कौन-कौन सी लोकेशन कवर हैं उसमे आपकी चाही हुई लोकेशंस कवर होनी चाहिए।
  6. पेमेंट प्लान और फीचर्स – किसी भी VPN को लेने से पहले आपको उनके पेमेंट प्लान्स और उसमे दिए जाने वाले फीचर्स को अच्छे से केक कर लेना चाहिए।
  7. कस्टूमर सर्विस – आपको यह भी चेक कर लेना चाहिए की उनकी कस्टूमर सर्विस कैसी है वो VPN खरीदने के बाद कोई कस्टूमर सर्विस देते भी है या नहीं।

Best Free VPN

यहाँ हम आपको कुछ सबसे अच्छे फ्री VPN की लिस्ट देने जा रहे है अगर आप फ्री VPN उपयोग करना चाहते हैं तो आप इनका यूज़ कर सकते हैं =>

  • Surfshark
  • TunnelBear
  • Windscribe
  • Hotspot shield
  • Proton VPN
  • Turbo VPN
  • Setup VPN

अगर आप पैसे खर्च कर सकते हैं और किसी जरुरी काम के लिए या कुछ गोपनीय रखने के लिए VPN का उपयोग करना है तो हम आपको यही सलाह देंगे की आप हमेशा paid VPN सर्विस का उपयोग करे, क्युकि फ्री VPN सर्विस में आपको उतनी अच्छी प्राइवेसी और सिक्योरिटी प्राप्त नहीं होती जितनी paid VPN सर्विस में मिलती है और फ्री VPN की लॉग पॉलिसी का भी कुछ पता नहीं होता।

The Best VPN service (Paid)

यहाँ हम आपको कुछ सबसे अच्छे paid VPN की लिस्ट देने जा रहे है अगर आप paid VPN उपयोग करना चाहते हैं तो आप इनका यूज़ कर सकते हैं =>

  • Express VPN
  • Nord VPN
  • Cyber Ghost
  • IIPVanish
  • Private Internet Access

VPN Kaise Use Kare

VPN को यूज़ करना बहुत ही आसान होता है क्युकि उनका इंटरफ़ेस बहुत ही आसान होता है तो आइये जानते हैं कि VPN kaise use kare

Laptop/Computer Par VPN Kaise Use Kare

VPN कोई सा भी हो सबको यूज़ करने का तरीका एक सा ही होता है आपको VPN डाउनलोड और इनस्टॉल करना होता है और अगर लॉग इन करने बोलै तो अकाउंट बना कर लॉग इन करना होगा और फिर जो लोकेशन आप चाहते हैं उसे सेलेक्ट करें और कनेक्ट करें आपका VPN हो जाएगा और आप कोई सी भी वेबसाइट विजिट कर पाएंगे।

हम यहाँ उदाहरण के लिए एक फ्री VPN बता रहे हैं जो बहुत अच्छा भी है और हमेशा के लिए फ्री भी है पर यह VPN आप क्रोम ब्राउज़र में यूज़ कर सकते हैं क्युकि यह क्रोम ब्राउज़र का एक एक्सटेंशन है इसका नाम है Setup VPN – Lifetime Free VPN आप सीधे इस लिंक पर जाकर इस VPN को अपने क्रोम ब्राउज़र में add कर सकते हैं।

https://hinditech4u.com/

क्रोम ब्राउज़र में Add करने के बाद सर्च बार के दाई तरफ आपको इसका आइकॉन दिख जाएगा उसपर क्लिक करने के बाद आपको इस पर अपने जीमेल से अकाउंट बनाना है और आपके मेल पर एक कन्फ़र्मेशन का मेल आएगा उस पर जाकर कन्फर्म करना होगा और फिर उसी जीमेल ID से लॉग इन करना होगा।

अगर आप जानना चाहतें हैं कि जीमेल अकाउंट कैसे बनाये और उनको कैसे प्रयोग करें ये जानने के लिए आप लिंक पर क्लिक करके हमारा जीमेल वाला पोस्ट पढ़ सकते हैं।

इसके बाद आप जिस भी लोकेशन का सर्वर यूज़ करना चाहे उसे सेलेक्ट करे और connect पर क्लिक करे, आपका VPN कनेक्ट हो जाएगा और आप कोई से भी वेबसाइट यूज़ कर पाएंगे और आपकी लोकेशन वही दिखेगी जो आपने सेलेक्ट की होगी, और आपका कनेक्शन प्राइवेट और सिक्योर रहेगा ,

जब आप VPN बंद करना चाहे तो फिर उसी आइकॉन पर क्लिक करे और disconnect पर क्लिक करे आपका VPN बंद हो जाएगा।

Smartphone Me -Turbo VPN Kaise Use Kare

अगर आप अपने स्मार्टफोन पर VPN यूज़ करना चाहते हैं तो आप turbo VPN या thunder VPN का उपयोग कर सकते हैं दोनों के ही फ्री और paid version आपको मिल जाते है और दोनों ही मोबाइल पर यूज़ करने के लिए अच्छे है पर यदि आप फ्री version यूज़ करते है तो आपको कुछ फीचर और लोकेशन के ऑप्शन कम मिलते है।

Turbo VPN Kaise Use Kare – Turbo VPN यूज़ करने के लिए आप गूगल प्ले स्टोर पर जाकर उसे इनस्टॉल कर ले और फिर उसे ओपन करे अगर आप paid version का ट्रायल लेना चाहे तो आप ले सकते हैं और यदि आप फ्री version यूज़ करना चाहे तो फ्री version यूज़ कर सकते हैं

ऊपर दिए गए पृथ्वी के आइकॉन पर क्लिक करे और सर्वर लोकेशन सेलेक्ट करे, और फिर connect पर क्लिक करे आपका VPN कनेक्ट हो जाएगा और आप कोई सी भी वेबसाइट privately और securely यूज़ कर पाएंगे।

जब आपको VPN बंद करना हो तो VPN के पेज पर जाकर disconnect पर क्लिक करे VPN आपका बंद हो जाएगा।

अगर आपका कंप्यूटर या लैपटॉप स्लो चलता है या आप उसकी ख़राब परफॉरमेंस से परेशान हैं और अपने कंप्यूटर की स्पीड बढ़ाना चाहते हैं, तो आप हमारा पोस्ट कंप्यूटर की स्पीड कैसे बढ़ाएं सिस्टम को सुपरफास्ट कैसे बनायें पढ़ कर अपने कंप्यूटर को पहले जैसे फ़ास्ट बना सकते हैं।

VPN Ke Nuksan

वैसे तो VPN यूज़ करने के कोई खास नुकसान नहीं है क्युकि यह हमारी सुरक्षा और निजता को बनाये रखने में मदद करते हैं और अपनी पहचान को गुप्त रखने और हैकर से बचाने में बहुत मददगार होते है पर फिर भी इसके कुछ नुकसान हो सकते हैं जैसे =>

  • हैकर यदि VPN का उपयोग करके किसी की जानकारी या अकाउंट को हैक करते हैं तो उन्हें पकड़ पाना बहुत मुश्किल हो जाता है।
  • VPN का यूज़ करने से आपके इंटरनेट की स्पीड थोड़ा कम हो सकती है क्युकि आपके और वेबसाइट के सर्वर के बीच एक और सर्वर जुड़ जाता है।
  • अगर आप VPN का उपयोग किसी तरह के गलत कामों के लिए करते हो तो उसके परिणाम बहुत बुरे हो सकते हैं क्युकि गलत काम गलत ही होता है चाहे आप कही करो।

निष्कर्ष

यहाँ हमने सीखा कि VPN kya hota hai, VPN kaise use kare, best free VPN kon se hai और हमने VPN से जुडी सभी बातें कवर करने का प्रयास किया है VPN को उपयोग करने से ये हमारी प्राइवेसी और सिक्योरिटी बढ़ाने में मदद करते हैं और हमें एक सिक्योर और प्राइवेट इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करते हैं।

पर हमें कभी VPN का उपयोग गलत कामों के लिए नहीं करना चाहिए क्युकि गलत कामों के परिणाम हमेशा बुरे ही होते हैं, और सरकार के पास बहुत ही हाई टेक्नोलॉजी होती है आप गलत काम करते हैं तो थोड़ा मुश्किल से ही सही पर उसका पता लगाया जा सकता है और फिर उसके परिणाम भी बुरे ही होते हैं।

अगर आपको हमारा यह प्रयास अच्छा लगा हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताये और इसी तरह की टेक्नोलॉजी से जुडी जानकारी के लिए हमारे अन्य पोस्ट भी पढ़ें।

अगर आप गूगल को बहुत ही साधारण तरीके से उपयोग करते हैं तो आपको जरूर जानना चाहिए की गूगल पर सर्च कैसे करे 17 बेस्ट गूगल सर्च ट्रिक्स इन हिंदी लिंक पर क्लिक करके आप हमारा वह पोस्ट पढ़ सकते हैं।

YouTube Channel Kaise Banaye | YouTube Se Paise Kaise Kamaye Ultimate Free Hindi Guide 2021

सीखते रहो सिखाते रहो

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *