Referral code kya Hota hai? easy & complete Hindi guide 2021

Referral code kya Hota hai

नमस्कार मित्रों यहाँ हम रेफरल कोड के बारे में बात करने वाले हैं कि, Referral code kya Hota hai, रेफरल कोड कैसे प्राप्त करें, रेफरल कोड का उपयोग कैसे करे और वो सब कुछ जो आप जानना चाहते हैं।

रेफरल कोड बहुत ही काम की चीज है, रेफरल कोड के द्वारा कोई भी व्यक्ति बहुत सारा पैसा कमा सकता है पर लोगों को इसके बारे में सही जानकारी नहीं है।

हमने देखा है कि बहुत से लोग रेफरल कोड के लिए सर्च करते हैं पर उनमें से बहुत से लोगों को यह भी पता नहीं होता कि रेफरल कोड क्या होता है(what is referral code in hindi) और उसका क्या महत्व है।

तो यदि आप जानना चाहते हैं कि Referral code kya Hota hai, रेफरल कोड कैसे प्राप्त करें(how to get referral code), रेफरल कोड से पैसे कैसे कमाए, तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें, और आपको आपके सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे।

Referral code kya Hota hai?

रेफरल कोड क्या है((what is referral code in Hindi) – एक रेफरल कोड एक यूनिक ट्रैकिंग कोड होता है जिसमे शब्द, अंक, विशिष्ट शब्द या इन सबका मिश्रण होता है, जब भी कोई किसी प्रोडक्ट, एप या सर्विस को प्रोमोट, रेफर करता है तो वह अपना रेफरल कोड भी देता है और जब भी कोई उस रेफरल कोड का उपयोग करके किसी एप, प्रोडक्ट के लिए sign up करता है या खरीदता है तो प्रमोशन करने वाले को कमीशन मिलता है।

बहुत से एप और बिज़नेस इसी पर आधारित हैं और जब आप उनकी वेबसाइट, एप, प्रोडक्ट या सर्विस के लिए sign up करते हैं या खरीदते हैं तब वो आपको उनके एप या प्रोडक्ट को कमिशन पर प्रोमोट करने के ऑफर प्रदान करते हैं।

रेफरल कोड कैसे काम करता है?

जब आप किसी एप या वेबसाइट पर साइन-अप करते हैं और उनके एफिलिएट या रेफरल प्रोग्राम को ज्वाइन करते हैं तब वह आपको एक यूनिक रेफरल कोड प्रदान करते हैं जो आपकी आइडेंटिटी की तरह काम करता है और आपको प्रमोशन करने का प्रोत्साहन देते हैं।

और जब आप उनके एप या प्रोडक्ट को सोशल मीडिया, ब्लॉग या किसी अन्य माध्यम से प्रोमोट करते हैं और यदि कोई आपके प्रमोशन से उनके प्रोडक्ट या एप पर जाता है,

और आपके रेफरल कोड का उपयोग करके उस एप या प्रोडक्ट को खरीदता या signup करता है, तो उस कंपनी को आपके रेफरल कोड से पता चलता है कि वो व्यक्ति आपके द्वारा भेजा गया है और उसने आपके रेफरल कोड से उस एप या प्रोडक्ट को खरीदा है।

और इस प्रकार वो अपने कमीशन रेट के अनुसार आपको हर सेल या signup पर कमीशन देते हैं।

प्रमोशन की इस प्रक्रिया में, आपको उस प्रोडक्ट या एप की डिटेल जानकारी लिखना या शेयर करना पड़ता है, उसकी विशेषताएं बताना होता है, उसका लिंक देना होता है और लोगों को बताना होता है कि प्रोडक्ट या एप खरीदते या sigh up करते समय आपके रेफरल कोड का प्रयोग करें।

कुछ वेबसाइट और एप आपको प्रमोशन करने के लिए उनके प्रोडक्ट या एप की सारी डिटेल्स और लिंक प्रदान करते हैं आपको सिर्फ उसे शेयर और प्रोमोट करना होता हैं।

और अपना रेफरल कोड देकर उन्हें प्रोडक्ट या एप खरीदते या साइन अप करते समय आपका रेफरल कोड यूज़ करने के लिए कहना होता हैं।

इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए कंपनियों ने एक नया प्रमोशन का तरीका निकाला जिसे रेफरल लिंक के नाम से जाना जाता है।

Zip File Kya Hai? Zip File Kaise Banaye Easy & Simple Hindi Tutorial

Referral link kya hai?(What is a referral link)

रेफरल लिंक क्या है – रेफरल लिंक किसी प्रोडक्ट, एप या सर्विस का एक लिंक होता है जो यूजर को उस प्रोडक्ट या एप के खरीदने वाले पेज पर ले जाता है, इस लिंक के अंदर लिंक को शेयर या प्रोमोट करने वाले का रेफरल कोड भी समाहित होता है, और जब लोग इस लिंक के द्वारा उस प्रोडक्ट को खरीदते या sigh up करते हैं तो शेयर या प्रोमोट करने वाले को कमीशन मिलता है।

रेफरल लिंक कैसे काम करता है?

रेफरल कोड प्रमोशन सिस्टम में प्रमोटर को पहले प्रोडक्ट की डिटेल और उसका लिंक शेयर करना होता है और फिर अपना रेफरल कोड देकर उसे यूज़ करने के लिए कहना पड़ता है।

पर रेफरल लिंक के प्रमोशन सिस्टम में सिर्फ उस प्रोडक्ट या एप का रेफरल लिंक शेयर करना होता है क्युकि उस रेफरल लिंक में उस प्रोडक्ट की जानकारी, उस प्रोडक्ट तक पहुंचने का लिंक और प्रोमोट करने वाले का रेफरल कोड सब समाहित होता है।

आपको सिर्फ वह रेफरल लिंक शेयर करना होता है और जैसे ही कोई उस लिंक पर क्लिक करता है तो वह उस प्रोडक्ट के पेज पर पहुंच जाता है और यदि वह उस प्रोडक्ट के लिए sign up करता है या उस प्रोडक्ट को खरीदता है तो आपको उसका कमीशन मिलता है।

चूँकि आपका रेफरल कोड भी उस रेफरल लिंक में समाहित होता है इसीलिए आपको लोगों को अलग से आपका रेफरल कोड देकर उसे उस प्रोडक्ट को खरीदते समय उपयोग करने के लिए नहीं कहना पड़ता।

एंड्राइड फ़ोन रुट करना क्या होता है और इसके क्या फायदे और नुकसान हैं

रेफरल कोड और रेफरल लिंक के उदाहरण

रेफरल कोड का उदाहरण(Example of referral code)

कई बार ऐसा होता है कि जब हम कुछ ऑनलाइन खरीदने जाते हैं तो कंपनी या वेबसाइट पर हमसे रेफरल कोड एंटर करने के लिए कहा या पुछा जाता है और यदि हम रेफरल कोड एंटर करते हैं तो हमें एक्स्ट्रा डिस्काउंट दिया जाता है।

जैसे यदि हम godady.com पर डोमेन खरीदने जाते हैं या होस्टिंग प्रोवाइडर से होस्टिंग खरीदते हैं तब वे रेफरल या प्रोमो कोड एंटर करने का ऑप्शन देते हैं जैसा कि इमेज में दिखाया गया है।

https://hinditech4u.com/

और अगर हमारे पास रेफरल कोड होता है और हम उसे एंटर करते हैं तो हमें डिस्काउंट प्राप्त हो जाता है।

जीमेल अकाउंट कैसे बनाये और उनको कैसे प्रयोग करें

रेफरल लिंक का उदाहरण(Example of referral link)

आपने एयरटेल के बारे में सुना होगा या जानते होंगे, यह एक टेलीकॉम कंपनी है जो टेलीकॉम और इंटनेट सेवाएं प्रदान करती है। उसकी अपनी एप और प्रमोशनल प्रोग्राम है।

अगर आप उनकी एप को रेफर या प्रमोट करते हो और अगर आपके रेफरल लिंक से कोई उनकी एप को इनस्टॉल या sign up करता है तो आपको 50 रूपए का कमिशन मिलता है और ज्वाइन करने वाले को भी 50 रूपए का बोनस मिलता है।

https://hinditech4u.com/
https://hinditech4u.com/

दूसरी इमेज में हमने इस एप का रेफरल मैसेज दिखया है जिसे हमने व्हाट्सएप पर शेयर किया है जिसमे उसका रेफरल लिंक और उसमे छुपे रेफरल कोड को दिखाया है।

अगर कोई इस लिंक पर क्लिक करके उनकी एप को इंसटाल और sign up करता है तो हमें 50 रुपये का कमिशन मिलेगा और sign up करने वाले को 50 रूपए का बोनस मिलेगा।

इसी तरह Paytm और अन्य मनी अर्निंग एप में भी होता है।

ईमेल और जीमेल में क्या अंतर होता है या जीमेल में CC और BCC क्या होता है

रेफरल कोड और रेफरल लिंक में अंतर

रेफरल कोड और रेफरल लिंक दोनों एक ही काम करते हैं और दोनों का प्रयोग सिर्फ प्रोडक्ट को प्रोमोट करने और कमीशन प्राप्त करने के लिए किया जाता है पर दोनों में कुछ अंतर होते है जो इस प्रकार हैं =>

रेफरल कोड रेफरल लिंक
रेफरल कोड के प्रमोशन सिस्टम में आपको प्रोडक्ट की डिटेल्स शेयर करनी पड़ती है और फिर लिंक भेजना पड़ता और और अपना रेफरल कोड देकर उसे एंटर करने के लिए कहना पड़ता है। लेकिन रेफरल लिंक के प्रमोशन सिस्टम में आपको सिर्फ रेफरल लिंक शेयर या प्रमोट करना होता है, उसमें प्रोडक्ट की डिटेल, उसका लिंक और रेफरल कोड सबकुछ होता है।
रेफरल कोड एंटर करने पर ही आपको कमिशन मिलता है। रेफरल कोड एंटर करने की जरुरत नहीं होती।
लोगों का उनको भेजे गए लिंक से प्रोडक्ट खरीदना या sign up करना जरुरी नहीं होता वो डायरेक्ट भी प्रोडक्ट पेज पर जा सकते हैं। लोगों का उनको भेजे लिंक से ही प्रोडक्ट को खरीदना या sign up करना जरुरी होता है वरना आपको कमिशन नहीं मिलता।

गूगल पर सर्च कैसे करे 17 बेस्ट गूगल सर्च ट्रिक्स इन हिंदी

रेफरल लिंक/रेफरल कोड कैसे प्राप्त करें(How to get a referral code)

अगर आप किसी प्रोडक्ट या एप को प्रमोट करने के लिए रेफरल कोड प्राप्त करना चाहते हैं तो रेफरल कोड प्राप्त करने के दो तरीके हैं जो इस प्रकार है =>

  1. अगर आप किसी एप या वेबसाइट के प्रोडक्ट्स को प्रमोट करने के लिए उसका रेफरल कोड प्राप्त करना चाहते हैं जैसे डोमेन या होस्टिंग बेचने वाली वेबसाइट, तो पहले आपको उनका एफिलिएट या रेफरल प्रोग्राम ज्वाइन करना होगा, रेफरल प्रोग्राम को ज्वाइन करने के बाद आपको उनका रेफरल/एफिलिएट/प्रोमो कोड प्राप्त हो जाएगा और आप उनके प्रोडक्ट्स को प्रमोट कर सकते हैं।
  2. कुछ एप्स या वेबसाइट में रेफरल कोड ढूंढने में थोड़ा मुश्किल होती है क्युकि वो आपको अपने प्रोडक्ट्स के रेफरल लिंक प्रोवाइड करती हैं जैसे मनी अर्निंग एप या अमेज़न, जब आप इनके रेफरल प्रोग्राम को ज्वाइन करते हैं तो ये आपको इनके प्रोडक्ट्स, एप्स को प्रोमोट करने के लिए उनके रेफरल लिंक उपलब्ध कराते हैं, अगर आप अपना रेफरल कोड जानना चाहते हैं तो आप उसे अपने रेफरल लिंक में ढूंढ सकते हैं क्युकि रेफरल लिंक में रेफरल कोड भी समाहित होता है।

पॉडकास्ट क्या है और इसे कैसे बनाया जाता है और इससे क्या होता है

रेफरल लिंक होने पर भी रेफरल कोड ढूंढने की जरुरत क्यों होती है?

रेफरल लिंक होने पर भी हमें अपना रेफरल कोड पता होना चाहिए क्युकि रेफरल लिंक शेयर करने पर यदि कोई आपके रेफरल लिंक पर क्लिक करके प्रोडक्ट को खरीदता है तभी हमें कमीशन मिलता है।

पर यदि वो व्यक्ति आपके लिंक पर क्लिक करके उस प्रोडक्ट पर नहीं जाता और डायरेक्ट उस प्रोडक्ट की वेबसाइट पर जाकर उसे खरीदता है तो हमें कोई कमीशन नहीं मिलेगा।

पर यदि आप रेफरल लिंक के साथ अपना रेफरल कोड भी शेयर करते हैं और उन्हें अपना रेफरल कोड एंटर करने को कहते हैं तो इससे आपके कमीशन प्राप्त करने के चांस बढ़ जाते हैं।

क्युकि यदि कोई रेफरल लिंक पर क्लिक करके प्रोडक्ट के पेज पर नहीं गया तो भी उसे रेफरल कोड एंटर करने का ऑप्शन मिलेगा और वहां वो आपका रेफरल कोड एंटर कर सकता हैं और यदि वह हमारा रेफरल कोड एंटर करता है तो भी हमें कमीशन मिलेगा।

TeamViewer Kya Hai (What Is TeamViewer)? Yah Kaise Kam Karta Hai 

रेफरल कोड का महत्व/लाभ(रेफरल कोड/लिंक प्रोग्राम)

किसी रेफरल प्रोग्राम को ज्वाइन करने और उसके प्रोडक्ट्स को प्रोमोट करने के बहुत से फायदे होते हैं आइये उनके बारे में जानते हैं =>

आय(Earning)

किसी एफिलिएट/रेफरल प्रोग्राम को ज्वाइन करने और उनके प्रोडक्ट्स को प्रमोट करने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि आप इसके द्वारा लाखों रूपए कमा सकते हैं। एफिलिएट/रेफरल मार्किट दुनिया का एक बहुत बड़ा मार्किट है।

बहुत सी कंपनी और व्यवसाय इसी पर आधारित हैं और एफिलिएट मार्केटर प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग करके लाखों रूपए कमाते हैं वे सिर्फ एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करते हैं और प्रोडक्ट्स को अपने नेटवर्क में, सोशल मीडिया पर, ब्लॉग या कई अन्य माध्यमों से प्रमोट करते हैं।

प्रतिष्ठा

एक बार यदि आप सफल मार्केटर बन जाते हैं तो मार्किट में आपकी प्रतिष्ठा और साख बन जाती है, और जब आप किसी प्रोडक्ट को प्रोमोट करते हैं तो लोग आप पर भरोसा करते हैं और आप और ज्यादा पैसा कमा सकते हैं।

विकास

विकास और तरक्की के लिए पैसा बहुत जरुरी है, और एक बार आप एफिलिएट मार्केटिंग से पैसा कामना शुरू कर देते हैं, तब आप तेजी से अपना विकास कर सकते हैं, अपना बिज़नेस या प्रोडक्ट्स बना सकते हैं और फिर उनसे भी पैसा कमा सकते हैं।

ब्रांड वैल्यू

एक बार आप सफल मार्केटर और बिजनेसमैन बन जाते हैं तो मार्किट में आपकी ब्रांड वैल्यू बन जाती है लोग आप पर ज्यादा भरोसा करते हैं और फिर आप अपनी ब्रांड वैल्यू को कई तरह से भुना सकते हैं।

ऑफर्स

जब आप सफल मार्केटर बन जाते हैं और मार्किट में प्रतिष्ठा बना लेते हैं तो आपको बहुत सारी कंपनियां अपने प्रोडक्ट्स को प्रोमोट करने के लिए ऑफर्स देते हैं तब आप उनसे अधिक ऊँचे रेट से कमीशन की मांग कर सकते हैं और बहुत सारा पैसा कमा सकते हैं।

सावधानियाँ

किसी भी एफिलिएट या रेफरल प्रोग्राम को ज्वाइन करने या उनके प्रोडक्ट को प्रोमोट करने से पहले आपको कुछ सावधानियों के बारे में पता होना चाहिए जैसे –

  1. किसी भी कंपनी के एफिलिएट/रेफरल प्रोग्राम को ज्वाइन करने से पहले आपको उनके बारे में पता कर लेना चाहिए कि वो विश्वसनीय है या नहीं, पेमेंट सही समय पर देती है या नहीं।
  2. किसी भी प्रोडक्ट को प्रमोट करने से पहले उस पर मिलने वाले कमिशन रेट को चेक कर लेना चाहिए क्युकि हर प्रोडक्ट और एक जैसा कमिशन नहीं मिलता।
  3. आपको उसी प्रोडक्ट को प्रमोट करना चाहिए जो सच में अच्छा हो क्युकि ख़राब प्रोडक्ट को प्रोमोट करने से आपकी भी वैल्यू ख़राब हो जाती है।
  4. आपको किसी भी अवैधानिक या अनैतिक प्रोडक्ट या एप का प्रमोशन नहीं करना चाहिए।

अंतिम शब्द

यहाँ हमने रेफरल कोड के बारे में सबकुछ बहुत ही आसान तरीके से समझने का प्रयास किया है जैसे रेफरल कोड क्या है(Referral code kya Hota hai), रेफरल कोड कैसे प्राप्त करें(How to get a referral code), रेफरल लिंक क्या है(What is a referral link), रेफरल कोड का महत्व और भी अन्य तथ्य।

यह एक बहुत ही बड़ा विषय है जिसे एक छोटे से पोस्ट में सम्पूर्ण रूप से बता पाना संभव नहीं है, पर हमने सभी महत्वपूर्ण जानकारियों को उपलब्ध करने का प्रयास किया है, यह एक बहुत बड़ा मार्किट है और आप इससे बहुत पैसा कमा सकते है।

पर अन्य व्ययसायों की तरह इसमें भी कॉम्पिटिशन और रिस्क है इसीलिए आपको इस काम को शुरू करने से पहले सभी पहलुओं के बारे में विस्तार से जान और समझ लेना चाहिए और जब आप पूरी तरह से तैयार हो जाएं तभी इस काम को शुरू करना चाहिए।

अगर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो हमें कमेंट के माध्यम से अपने राय जरूर बताएं और टेक्नोलॉजी, ब्लॉगिंग से जुडी अन्य जानकारियों के लिए हमारे अन्य पोस्ट भी पढ़ें।

इन्हे भी पढ़ें

वेब एप्लीकेशन क्या है? वेब एप्लीकेशन और वेबसाइट में क्या अंतर है?

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है और इसका क्या महत्व है

Microsoft Outlook Kya Hai No.1 Easy and Simple Outlook Tutorial In Hindi

 phishing क्या है और फिशिंग अटैक से कैसे बचें 

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here