Internet Banking Kya Hai E-Banking Ke Fayde Or Nuksan Best Hindi Guide 2021

Internet Banking Kya Hai

नमस्कार मित्रों, यहाँ हम इंटरनेट बैंकिंग के बारे में जानने वाले हैं कि Internet Banking Kya Hai, नेट बैंकिंग कैसे शुरू करें, इंटरनेट बैंकिंग के क्या फायदे हैं और क्या नुकसान हैं और नेट बैंकिंग से जुडी अन्य सभी बातें।

मित्रों बैंकिंग सिस्टम हमें हमारे काम, पैसों की सुरक्षा, लेन-देन, अन्य वित्तीय सुविधाएं, वित्तीय सहायता, लोन जैसी सुविधाएँ प्रदान करता है जिससे हमारे काम को, जीवन शैली को गति मिलती है।

हम सुरक्षित लेन-देन कर पाते हैं, अपने पैसों को सुरक्षित रख पाते हैं, इन्ही सुविधाओं में बैंकों ने एक और सुविधा प्रदान करना शुरू किया जिसे इंटरनेट बैंकिंग, नेट बैंकिंग, वेब बैंकिंग, ई-बैंकिंग आदि नामों से जाना जाता है।

इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से हम वो सभी काम जिनके लिए हमें बैंकों में जाना पड़ता था, लाइन में लगना पड़ता था, अब घर बैठे किये जा सकते हैं जैसे अपने किसी अन्य खाते या किसी और के खाते में पैसे भेजना,

अन्य सर्विसेज जैसे ATM, चेक बुक आदि के लिए रिक्वेस्ट करना और भी अन्य कार्य जो बैंक जाकर भी नहीं होते थे अब इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से घर बैठे किये जा सकते हैं,

तो अब आपके मन में सवाल होंगे कि Internet Banking Kya Hai, Net Banking Kaise Shuru Karen, Internet banking Ke Kya Fayde Hain, Internet Banking Ke Kya Nuksan Hain

तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें और आपको इंटरनेट बैंकिंग से जुड़ी पूरी जानकारी मिल जाएगी।

Contents hide

इंडिया में इंटरनेट बैंकिंग की शुरुवात

इंडिया में इंटरनेट बैंकिंग को शुरू करने पर 1990 से ही विचार किया जाने लगा था पर उस समय इंटरनेट सुविधाएँ भारत में उपलब्ध नहीं थीं, 1995 में इंडिया में इंटरनेट का संचालन शुरू किया गया।

उसके बाद सबसे पहले 1996 में आईसीआईसीआई बैंक ने भारत में इंटरनेट बैंकिंग सुविधा की शुरुवात की, परन्तु भारत में इंटरनेट बैंकिंग सुविधाएँ 1999 से सुचारु रूप से शुरू हो पाईं,

आज देश के अधिकतर बैंक इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा प्रदान कर रहे हैं और उपभोक्ता नेट बैंकिंग से अपने लेन-देन के कार्यों को घर बैठे कर पा रहे हैं।

Internet Banking Kya Hai

इंटरनेट बैंकिंग दो शब्दों इंटरनेट और बैंकिंग से मिलकर बनता है, किसी उपकरण जैसे मोबाइल, लैपटॉप या कंप्यूटर के द्वारा इंटरनेट के माद्यम से बैंक की वेबसाइट या एप पर जाकर अपने बैंक खाते से वित्तीय लेन-देन, अन्य बैंकिंग सुविधाओं का उपयोग करना इंटरनेट बैंकिंग कहलाता है।

इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से अपने खाते में पैसे मंगाना, अपने किसी अन्य खाते में पैसे ट्रांसफर करना, किसी और के खाते में पैसे भेजना, नए चेक बुक, एटीएम के लिए रिक्वेस्ट भेजना, एटीएम का पासवर्ड बदलना,

मोबाइल, बिजली आदि के बिलों का भुगतान करना, इन्शुरन्स, लोन, इंवेटमेंट, क्रेडिट कार्ड अप्लाई आदि सभी कार्य ऑनलाइन घर बैठे ही किये जा सकते हैं, ना ही आपको बैंक की ब्रांच जाना पड़ता है और ना ही लाइन में लगना पड़ता है।

जैसे-जैसे इंटरनेट सुविधाओं, स्मार्टफोन आदि का उपयोग बढ़ता जा रहा है वैसे ही इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग भी बढ़ता जा रहा है और आज इंटरनेट का उपयोग करने वाले लोगों में से अधिकतर लोग इंटरनेट बैंकिंग का भी उपयोग कर रहे हैं।

Internet Banking को Net Banking, Web Banking, E-Banking आदि नामों से जाना जाता है पर इन सबका एक ही अर्थ है और वह है इंटरनेट के माध्यम से बैंक की वेबसाइट या बैंकिंग एप पर जाकर अपने बैंक खाते से बैंकिंग सुविधाओं का उपयोग करना।

इंटरनेट बैंकिंग सुविधा शुरू कर लेने के बाद आप कहीं से भी और कभी भी बैंक की वेबसाइट पर जाकर अपने बैंक खाते को एक्सेस कर सकते हैं और अपने बैंकिंग से सम्बंधित सभी कार्य कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें – VPN क्या होता है VPN कैसे यूज़ करें

इंटरनेट बैंकिंग कैसे चालू करें

इंटरनेट बैंकिंग चालू करने के लिए आपके पास एक बैंक अकाउंट होना चाहिए और बैंक अकाउंट उस बैंक में होना चाहिए जो इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा प्रदान करता हो वैसे तो आज के समय में अधिकतर बैंक नेट बैंकिंग की सुविधा प्रदान करते हैं।

आपका फ़ोन नंबर आपके बैंक अकॉउंट में रजिस्टर होना चाहिए, फिर आपको बैंक की ब्रांच में जाना है और इंटरनेट बैंकिंग के लिए आवेदन फॉर्म भरकर सबमिट कर देना है कुछ दिनों में बैंक आपको इंटरनेट बैंकिंग के लिए ID और पासवर्ड प्रदान कर देगा।

फिर बैंक की वेबसाइट पर जाकर लॉगिन सेक्शन में उस ID और पासवर्ड को एंटर करना है और जो जानकारी वहां मांगी जाये उसे एंटर कर देना है आपकी इंटरनेट बैंकिंग चालू हो जाएगी, फिर आप अपने बैंक खाते को एक्सेस कर सकते हैं और इंटरनेट बैंकिंग की सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं।

इसे भी पढ़ें – वेब एप्लीकेशन क्या है वेबसाइट और वेब एप्लीकेशन में क्या अंतर है

इंटरनेट बैंकिंग की विशेषताएं

  • इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा आप बैंक की वित्तीय और गैर-वित्तीय सर्विसेज को एक्सेस कर सकते हैं।
  • आप अपने बैंक खाते के बैलेंस को किसी भी समय चेक कर सकते हैं।
  • आप बिलों का भुगतान कर सकते हैं।
  • अपने किसी अन्य खाते या किसी और के खाते में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।
  • आप अपने पिछले लेन-दिनों का विवरण (स्टेटमेंट) देख सकते हैं।
  • यह बैंकिंग का आसान और सुरक्षित तरीका है।
  • आपको यूनिक ID और पासवर्ड मिलता है जिससे आपका अकाउंट सुरक्षित रहता है।
  • आप नई चेक बुक और एटीएम के लिए रिक्वेस्ट कर सकते हैं।
  • पुराने एटीएम को ब्लॉक कर सकते है।
  • अपनी ट्रांजेक्शन लिमिट को घटा या बढ़ा सकते हैं।
  • इन्शुरन्स और इन्वेस्टमेंट जैसी सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं।
  • क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें – ईमेल और जीमेल में क्या अंतर है

इंटरनेट बैंकिंग पर उपलब्ध सर्विसेज

  • बैलेंस चेक – इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से आप अपने बैंक खाते को एक्सेस करके अपने खाते के बैलेंस को कभी भी चेक कर सकते हैं।
  • फण्ड ट्रांसफर – इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से आप NEFT, RTGS और IMPS के माध्यम से फण्ड ट्रांसफर कर सकते हैं।
  • बैंक स्टेटमेंट – नेट बैंकिंग के माध्यम से आप अपने पुराने ट्रांजेक्शन के स्टेटमेंट को चेक कर सकते हैं अलग-अलग टाइम पीरियड के स्टेटमेंट को देख सकते हैं और उसे PDF फाइल में डाउनलोड या प्रिंट भी कर सकते हैं।
  • यूटिलिटी बिल पेमेंट – आप इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से अपने बिलों जैसे बिजली बिल, मोबाइल बिल, पानी बिल आदि का ऑनलाइन भुगतान कर सकते हैं।
  • फिक्स डिपाजिट – आप कोई फिक्स डिपाजिट शुरू या बंद कर सकते हैं।
  • चेक बुक/ATM रिक्वेस्ट – अगर आपकी चेकबुक ख़तम हो गई है या आपका ATM ख़राब हो गया है या गुम गया है तो आप इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से नए ATM और चेकबुक के लिए रिक्वेस्ट कर सकते हैं।
  • शॉपिंग पेमेंट्स – अगर आप किसी वेबसाइट या मर्चेंट्स के द्वारा ऑनलाइन कुछ भी खरीदते है तो आप उसका नेट बैंकिंग के द्वारा पेमेंट कर सकते हैं।
  • जनरल इन्शुरन्स – आप अपनी इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से बैंक की वेबसाइट या किसी अन्य इन्शुरन्स वेबसाइट से जनरल इन्शुरन्स ले सकते हैं और उसका भुगतान अपनी नेट बैंकिंग के माध्यम से कर सकते हैं।
  • इन्वेस्टमेंट – आप म्यूच्यूअल फंड्स, स्टॉक्स, इन्शुरन्स पालिसी आदि में इंवेटमेंट कर सकते हैं और उसका भुगतान इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से कर सकते हैं।
  • ऑनलाइन टिकट बुकिंग – आप इंटरनेट बैंकिंग के माद्यम से ऑनलाइन बस, ट्रैन, एयर टिकट आदि बुक कर सकते हैं और उनका भुगतान कर सकते हैं।
  • EMI भुगतान – अगर आपने कोई लोन लिया है या किसी और चीज की कोई किश्त जाती है तो आप उसका भुगतान नेट बैंकिंग के माध्यम से कर सकते हैं और ऑटो डेबिट भी शुरू कर सकते हैं जिससे आपकी मासिक किश्त का समय पर अपने आप भुगतान हो जाएगा।

इनके अलावा विभिन्न बैंक कई अन्य सर्विसेज और सुविधाएँ प्रदान करते हैं जिनका लाभ आप इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से ले सकते हैं।

अब हम जान चुके है कि Internet Banking Kya Hai, और इसमें क्या सर्विसेज मिलती हैं आइये अब इंटरनेट बैंकिंग के फायदों और नुकसान(Advantages and Disadvantages Of Internet Banking) के बारे में जानते हैं।

इसे भी पढ़ें – ज़िप फाइल क्या है ज़िप फाइल कैसे बनायें

इंटरनेट बैंकिंग के फायदे/लाभ

Internet Banking Kya Hai E-Banking Ke Fayde Or Nuksan Best Hindi Guide 2021

समय की पाबंधी से मुक्ति

ऑफलाइन बैंकिंग के साथ सबसे बड़ी समस्या है समय की पाबंधी, अधिकांश बैंक सुबह 10 बजे से दोपहर 4 बजे तक ही बैंकिंग सर्विस प्रदान करते हैं उसके बाद यदि आपको कोई काम आ जाए तो आप नहीं कर सकते,

पर इंटरनेट बैंकिंग से समय की पाबंधी ख़तम हो जाती है, इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से आप 24*7 कभी भी अपने बैंक अकाउंट को ऑनलाइन एक्सेस कर सकते हैं और अपने बैंकिंग और अन्य कार्य कर सकते हैं।

वित्तीय लेन-देन में आसानी

इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से बिल भुगतान और फाइनेंसियल ट्रांजेक्शन कर बहुत ही आसान होता है इंटरनेट बैंकिंग आपको सभी प्रकार के फाइनेंसियल ट्रांजेक्शन करने की सुविधा प्रदान करती है

आप इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से लगभग सभी प्रकार के वित्तीय ट्रांजेक्शन जैसे फण्ड ट्रांसफर, बिल भुगतान, शॉपिंग, टिकट बुकिंग आदि बहुत ही आसानी से कर सकते हैं।

सभी ट्रांजेक्शन्स पर नजर

इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से आप अपने खाते से होने वाले सभी ऑनलाइन और ऑफलाइन ट्रांजेक्शन पर आसानी से नजर रख सकते हैं आप जब चाहें ट्रांजेक्शन्स को चेक कर सकते हैं।

अलग-अलग टाइम पीरियड के स्टेटमेंट निकाल कर बैंक की रसीदों और अपनी खता बही की एंट्रियों से सभी पिछले लेन-देनों का मिलान कर सकते हैं आप आसानी से देख सकते हैं कि किस डेट को, किस नाम से कितना पैसा भेजा गया है या प्राप्त किया गया है।

तेज और सुरक्षित

इंटरनेट बैंकिंग सभी वित्तीय और गैर-वित्तीय ट्रांजेक्शन करने का बहुत तेज और सुरक्षित तरीका है, इससे न ही आपको बैंक की ब्रांच जाना पड़ता है और ना ही लाइन में लगकर अपनी बारी का इंतजार करना पड़ता है।

आप जब चाहें बैंक की वेबसाइट या एप पर जाकर अपने सभी प्रकार के ट्रांजेक्शन कर सकते हैं, इंटरनेट बैंकिंग को एक्सेस करने के लिए आपको यूनिक ID और पासवर्ड प्रदान किया जाता है,

और साथ ही हर ट्रांजेक्शन को आपको OTP द्वारा वेरीफाई करना होता है जिससे इंटरनेट बैंकिंग बहुत ही सुरक्षित हो जाती है।

गैर वित्तीय ट्रांसजेक्शन

इंटरनेट बैंकिंग में आपको वित्तीय ट्रांजेक्शन के साथ अन्य गैर वित्तीय ट्रांजेक्शन करने की भी सुविधा मिलती है आप इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से आसानी से अपने ट्रांजेक्शन की हिस्ट्री चेक कर सकते है,

पुराने ट्रांजेक्शन्स का स्टेटमेंट निकाल सकते हैं, चेकबुक, ATM आदि के लिए रिक्वेस्ट भेज सकते हैं, किसी सर्विस को शुरू या बंद कर सकते हैं और भी कई अन्य ऐसे नॉन-फाइनेंसियल काम होते हैं जो आप इंटरनेट बैंकिंग के से कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें – फिशिंग क्या है फिशिंग अटैक से कैसे बचें

इंटरनेट बैंकिंग के नुकसान/हानियां

Internet Banking Kya Hai E-Banking Ke Fayde Or Nuksan Best Hindi Guide 2021

नए लोगों के लिए मुश्किल

जो लोग नए होते हैं जिन्होंने अभी इंटरनेट यूज़ करना शुरू किया होता है या जो इंटरनेट के बारे में ज्यादा नहीं जानते उन लोगों के लिए इंटरनेट बैंकिंग उपयोग करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

जिन लोगों को कोई बताने वाला या सिखाने वाला नहीं होता उन लोगों के लिए भी नेट बैंकिंग को चालू करना और उसका उपयोग करना मुश्किल होता है और साथ ही कुछ गलत हो जाने पर नुकसान होने की आशंका भी रहती है।

इंटरनेट की आवश्यकता

इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने के लिए एक गैजेट जैसे स्मार्टफोन, लैपटॉप या कंप्यूटर की जरुरत होती है और उसके साथ अबाध्य इंटरनेट का होना भी जरुरी होता है क्युकि बिना इंटरनेट के बैंक की वेबसाइट को ओपन ही नहीं किया जा सकता।

अभी भी हमारे देश में सभी जगह अच्छी इंटरनेट सुविधाएँ उपलब्ध नहीं हैं जिससे इंटरनेट कनेक्टिविटी, कनेक्शन फेलियर, स्लो इंटरनेट जैसी समस्यांए बनी रहती है,

और यदि किसी प्रकार का ट्रांजेक्शन करते समय इंटरनेट की समस्या आ जाती है तो पैसे का नुकसान हो सकता है, इसीलिए इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने के लिए करने के लिए इंटरनेट का होना बहुत जरुरी है।

लेन-देन की सुरक्षा

माना कि बैंक हमें इंटरनेट बैंकिंग से ट्रांजेक्शन करने और बाकि सभी कार्यों के लिए सुरक्षा प्रदान करते हैं पर इंटरनेट पर कुछ भी 100% सुरक्षित नहीं होता, इंटरनेट पर ऐसे बहुत से हैकर और जालसाज लोग होते हैं,

जो आपकी इंटरनेट गतिविधियों पर नजर रखे रहते हैं और हैकिंग, फिशिंग जैसी गतिविधियों से आपकी जानकारी को चुरा लेते हैं और आपको वित्तीय नुकसान पंहुचा सकते हैं।

पासवर्ड सुरक्षा

इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने के लिए हमें ID और पासवर्ड की जरुरत होती है पर उस पासवर्ड को सुरक्षित रखना भी बहुत जरुरी होता है अगर किसी को आपके पासवर्ड का पता चल जाता है तो वह आपके अकाउंट से पैसे निकाल सकता है।

जिससे आपको नुकसान हो सकता है इसके साथ ही बैंक आपको आपके अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए आपको अपने पासवर्ड को समय-समय पर बदलते रहने की सलाह देता है,

बार-बार पासवर्ड को बदलना और उसे याद रखना भी मुश्किल होता है और यदि आप पासवर्ड भूल गए तो फिर उसे रिकवर करना भी मुश्किल होता है।

इसे भी पढ़ें – इंटरनेट क्या है इसका उपयोग कैसे करें

इंटरनेट बैंकिंग उपयोग करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

Internet Banking Kya Hai E-Banking Ke Fayde Or Nuksan Best Hindi Guide 2021

डिवाइस (मोबाइल या कंप्यूटर)

इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने के लिए हमेशा अपने ही मोबाइल या कंप्यूटर का उपयोग करना चाहिए किसी अन्य के मोबाइल या कंप्यूटर से इंटरनेट बैंकिंग को एक्सेस नहीं करना चाहिए।

किसी अन्य के मोबाइल या कंप्यूटर करने पर आपकी इंटरनेट बैंकिंग की ID और पासवर्ड उसके कैश मेमोरी में सेव हो जाती है और फिर वह उससे आपके अकाउंट को एक्सेस कर सकता है और आपको वित्तीय नुकसान पंहुचा सकता है।

पब्लिक इंटरनेट

किसी अन्य व्यक्ति के हॉटस्पॉट या पब्लिक Wi-Fi का इस्तेमाल करते समय भी अपनी इंटरनेट बैंकिंग को एक्सेस नहीं करना चाहिए क्युकि हो सकता है कि कोई हैकर या जालसाज भी उसी नेटवर्क को एक्सेस करके बैठा हो,

और आपके बैंक अकाउंट को एक्सेस करते ही वह उसे हैक कर ले और आपको नुकसान पंहुचा दे, इसीलिए इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग अपने डाटा या Wi-Fi पर ही करना चाहिए।

अविश्वसनीय एप्स

अपने मोबाइल या कंप्यूटर में ऐसे एप्स या सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल नहीं करना चाहिए जो विश्वसनीय ना हों क्युकि इस तरह के सॉफ्टवेयर और एप्स आपका डाटा और जानकारी को चुराते हैं और हैकर्स तक पहुंचाते है।

इंटरनेट एक्सेस

जब भी आप अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर इंटरनेट से सम्बंधित कोई काम न कर रहें हों तो इंटरनेट एक्सेस को बंद कर देना चाहिए क्युकि हैकर्स इंटरनेट पर बहुत से वायरस फैलाते रहते हैं जो आपके सिस्टम को भी नुकसान पंहुचा सकते हैं।

एंटीवायरस

अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर आपको हमेशा एक अच्छे एंटीवायरस का उपयोग करना चाहिए, क्युकि हम इंटरनेट पर बहुत सी वेबसाइट पर विजिट करते रहते और कई लिंक्स पर क्लिक करते रहते हैं।

जिनमे कई वायरस इन्फेक्टेड फाइल्स होती हैं जिससे वायरस हमारे सिस्टम में आ जाते हैं और हमारे मोबाइल और कंप्यूटर की स्पीड को स्लो कर देते हैं और हमारी पर्सनल इनफार्मेशन हैकर्स तक पंहुचा देते हैं।

अच्छे एंटीवायरस का उपयोग करने से ये वायरस हमारे सिस्टम तक नहीं पहुंच पते और हमारा सिस्टम वायरस से सुरक्षित रहता है।

पासवर्ड

आपको अपनी इंटरनेट बैंकिंग का पासवर्ड अपने नाम या जन्म तारिख के आधार पर नहीं बनाना चाहिए क्युकि इसका पता लगाना और अंदाजा लगाना हैकर्स के लिए बहुत ही आसान होता है।

आपको अलग और थोड़ा कठिन पासवर्ड रखना चाहिए जिसे कोई आसानी से पता ना कर सके और आपकी इंटरनेट बैंकिंग की जानकारी सुरक्षित रहे।

यहाँ हमने इंटरनेट बैंकिंग से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करने का प्रयास किया है जैसे Internet Banking Kya Hai, Net Banking Kaise Shuru Karen, Internet banking Ke Kya Fayde Hain, Internet Banking Ke Kya Nuksan Hain

यदि आपके मन में Internet Banking Kya Hai से सम्बंधित कोई और सवाल हो तो हमें कमेंट में बताएं हमें आपके सवालों का जवाब देने में बहुत ख़ुशी होगी।

यदि आपको यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे अन्य लोगों तक शेयर करें और हमारी वेबसाइट पर सब्सक्राइब कर लें जिससे आपको हमारे आने वाले सभी पोस्ट की जानकारी प्राप्त हो जाएगी।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here