Podcast Kya Hai? Podcast Kaise Banaye Best Free Hindi Guide 2021

Podcast Kya Hai

नमस्कार मित्रों मेरा नाम आनंद पटेल है और आज हम पॉडकास्ट के बारे में बात करने वाले हैं कि podcast kya hai, podcast kaise banaye, और पॉडकास्ट से जुड़ी सारी जानकारी हम अपनी इस गाइड में शेयर करने वाले हैं, तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें और अगर आप हमारे ब्लॉग पर पहली बार आये हैं तो हमारे बेल नोटिफिकेशन को सब्सक्राइब कर लें ताकि आपकोइस तरह की टेक्नोलॉजी से जुड़ी सारी अपडेट मिलती रहे।

Podcast Kya Hai – पॉडकास्ट को दो शब्दों आईपॉड और ब्रॉडकास्ट को मिलाकर बनाया गया है, पॉडकास्ट ऑनलाइन किया जाने वाला एक श्रव्य प्रसारण (ऑडियो ब्रॉडकास्ट) है, जिस तरह हम रेडियो सुनते हैं उसी तरह हम इंटरनेट के माध्यम से पॉडकास्ट को अपने स्मार्टफोन पर सुन सकते हैं।

अगर आप यह पोस्ट पढ़ रहे हैं तो इसका मतलब है कि आपके मन में भी पॉडकास्ट से जुड़े बहुत से सवाल हैं जैसे podcast kya hai, podcasting kya hai, podcast kaise banaye, podcast ke liye jaruri equipment(upkaran), पॉडकास्ट कहाँ प्रसारित करें और भी बहुत कुछ, तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें और आपको आपके सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे।

Contents hide

Podcast Kya Hai(पॉडकास्ट क्या है)

पिछले 10-15 सालों में पॉडकास्ट एक शौंकिया काम से मुख्यधारा का का काम बन गया है और हर तरह के लोगों के लिए जानकारी प्राप्त करने और मनोरंजन का साधन बन गया है, तो आइये विस्तार से पॉडकास्ट को समझते हैं।

Podcast Meaning In Hindi

Podcast Kya Hai – पॉडकास्ट को दो शब्दों आईपॉड और ब्रॉडकास्ट को मिलाकर बनाया गया है, पॉडकास्ट ऑनलाइन किया जाने वाला एक श्रव्य प्रसारण (ऑडियो ब्रॉडकास्ट) है, जिस तरह हम रेडियो सुनते हैं उसी तरह हम इंटरनेट के माध्यम से पॉडकास्ट को अपने स्मार्टफोन पर सुन सकते हैं।

पॉडकास्ट में ऑडियो फाइल्स होती हैं जिन्हे हम कही भी और कभी भी सुन सकते हैं चाहे आप घर पर हों, बस में सफर कर रहे हों, कसरत कर रहे हों या ऑफिस जा रहे हो, आप कहीं भी पॉडकास्ट को सुन सकते हैं, पॉडकास्ट की सबसे अच्छी और इंटरेस्टिंग बात यह है कि पॉडकास्ट को रिकॉर्ड करना और पब्लिश करना बहुत ही आसान और सस्ता है।

पॉडकास्ट की परिभाषा(Definition)

” एक पॉडकास्ट एक सामान्य श्रव्य जानकारी, कहानी, साक्षात्कार या नाटकीय मंचन हो सकता है जिसे आप कहीं भी इंटरनेट के माध्यम से संगृहीत करके सुन सकते हैं। “

इंटरनेट पर मिलने वाली सामग्री(content) के प्रकार

इंटरनेट पर मुख्यतः तीन प्रकार का कंटेंट उपलब्ध होता है, इंटरनेट सारी दुनिया का कंटेंट प्राप्त करने का ठिकाना बन चुका है जहाँ से आप किसी भी प्रकार का कंटेंट प्राप्त कर सकते हैं पर इंटरनेट पर कंटेंट को अलग-अलग तरह से रखा जाता है जैसे =>

https://hinditech4u.com/

टेक्स्ट/इमेज कंटेंट

इस तरह के कंटेंट से हम बहुत अच्छी तरह से परिचित है जो आप अभी पढ़ रहे हैं यह इसी तरह का कंटेंट है हर तरह का कंटेंट अलग-अलग जगह मिलता है, इस तरह का कंटेंट आपको ब्लॉग और सोशल मीडिया पर मिल जाता है।

विडिओ कंटेंट

इस तरह का कंटेंट आजकल बहुत ही लोकप्रिय हो गया है इस तरह के कंटेंट में आप कंटेंट को देख और सुन सकते हैं इसमें आपको जानकारी, मनोरंजन, और भी अन्य तरह की वीडियोस मिल जाती हैं इस तरह का कंटेंट यूट्यूब जैसे प्लेटफार्म पर उपलब्ध होता है।

श्रव्य सामग्री (audio content)

इस तरह के कंटेंट में आप सिर्फ उसे सुन सकते हैं इस तरह का कंटेंट आपको पॉडकास्ट के माध्यम से मिलता है 2014 के इस तरह का कंटेंट उतना पॉपुलर नहीं था पर आज के समय में यह भी इंटरनेट पर उपलब्ध कंटेंट का बहुत ही प्रसिद्ध प्रकार बन गया है।

पॉडकास्ट इतना ज्यादा प्रसिद्ध क्यों हो रहा है

पॉडकास्ट आज के समय में इंडिया में बहुत पॉपुलर हो रहा है इंडिया में 50 करोड़ से ज्यादा इंटरनेट उपयोगकर्ता है जिनमें से 4 करोड़ से ज्यादा लोग पॉडकास्ट सुनना पसंद करते हैं। 2018 में पॉडकास्ट सुनने वालों की संख्या में 60% से ज्यादा की बढ़ोत्तरी हुई थी।

पॉडकास्ट के इतने अधिक प्रसिद्ध होने के पीछे बहुत ही सामान्य और सार्थक कारण है, आज के समय में हम सभी की लाइफ बहुत ही व्यस्त हो गई है और हमारे पास वीडियोस देखने और लेख पढ़ने का ज्यादा समय नहीं रहता, और मान लीजिए आप किसी ऑफिस में काम करते है और आपको दो से तीन घंटे रोज सफर करने में बिताना पड़ता है और यदि आप इस समय को कुछ सीखने में लगाना चाहे तो आप क्या करेंगे

अगर आप कोई लेख या वीडियो देखने या पढ़ने के लिए निकालते हैं तो आपको उसकी सही जानकारी समझने के लिए उस पर बहुत ध्यान लगाना होगा जोकि थोड़ा मुश्किल होता है, पर पॉडकास्ट पर ऐसा नहीं है आपको सिर्फ पॉडकास्ट चालू करना है और आप पॉडकास्ट को कही भी देखते हुए, चलते हुए, सफर करते हुए, खाना बनाते हुए, कुछ भी करते हुए उसके साथ सुन सकते है और उससे आप जो सीखना चाहे सीख सकते हैं और यही पॉडकास्ट के पॉपुलर होने का मुख्य कारण है।

अब तक हमने जाना कि podcast kya hai/podcasting kya hai, podcast meaning in hindi आइये अब पॉडकास्ट के महत्वपूर्ण रूप/विषयों को जानते हैं।

अगर आप गूगल पर अपने ब्लॉग/पोस्ट को रैंक करना चाहते है तो आपको गूगल के रैंकिंग फैक्टर्स के बारे में पता होना चाहिए, जिनके आधार पर गूगल पर पर पोस्ट को रैंक करता है, हमने बहुत रिसर्च करने के बाद 11 सबसे महत्वपूर्ण गूगल रैंकिंग फैक्टर्स पता किये हैं, और पोस्ट लिखा है, जिनको आपको जरूर पढ़ना चाहिए।

पॉडकास्ट के महत्वपूर्ण रूप/विषय

पॉडकास्ट के रूप पॉडकास्ट के वे विषय होते हैं जिनको आधार बनाकर लोग पॉडकास्ट बनाते और पब्लिश करते हैं यहाँ हम पॉडकास्ट के कुछ most popular podcast formats/topics के बारे में चर्चा करेंगे।

सोलो पॉडकास्ट

सोलो पॉडकास्ट, पॉडकास्ट का वह रूप है जिसमे आपको सुनने के लिए किसी और की जरुरत नहीं होती सिर्फ आपना विषय उठाइये और सीधे अपने श्रोताओं को सम्बोधित करते हुए अपनी बात कहिये।

इंटरव्यू पॉडकास्ट

इंटरव्यू पॉडकास्ट में आप किसी व्यक्ति का साक्षात्कार लेते हैं यहाँ सिर्फ आप दोनों एक दूसरे से बातें कर रहे होते हैं और साक्षात्कार देने वाला अपने जीवन की सच्ची घटनाये और कहानियां बताता है जो लोगों को बहुत ही उत्साहवर्धक लगती है और लोग जल्दी से उनकी उस कहानी के साथ जुड़ जाते हैं।

संवादी पॉडकास्ट(Conversational)

यह पॉडकास्ट वह रूप है जिसमे कुछ लोग मिलकर किसी एक विषय पर चर्चा करते हैं और अपने अपने विचार रखते हैं।

कहानी का पॉडकास्ट

पॉडकास्ट कहानियाँ सुनाने का बहुत अच्छा प्लेटफार्म है बहुत से लोग अपने ऑनलाइन काम की शुरुवात पॉडकास्ट पर स्टोरी टेलिंग से करते हैं क्युकि उन्हें शुरू में उतना अनुभव नहीं होता और कोई उन्हें जनता भी नहीं तो उन्हें इंटरव्यू भी बहुत काम मिलते हैं, तो वो पॉडकास्ट पर प्रेरणादायक कहानियां सुनना शुरू कर देते हैं।

रिव्यु पॉडकास्ट

इस तरह के पॉडकास्ट में किसी कम्पनी के किसी प्रोडक्ट के बारे में जानकारी दी जाती है और उसके सभी अच्छे और बुरे तथ्यों के बारे में बताया जाता है।

न्यूज़ पॉडकास्ट

इसमें देश विदेश की नवीनतम ख़बरें लोगो को सुनाई जाती हैं।

निर्धारित विषय पर पॉडकास्ट

इस तरह के पॉडकास्ट में लोग कोई एक विषय चुन लेते है और सिर्फ उसी से जुडी जानकारियां अपने ज्ञान और अनुभव के आधार पर अपने पॉडकास्ट के माध्यम से लोगों को सुनाते और सिखाते हैं।

अब तक हमने जाना कि podcast kya hai और पोडकास्ट के विभिन्न रूपों के बारे में जाना आइये पॉडकास्ट के कुछ और महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में जानते हैं।

अगर आप गूगल को बहुत ही साधारण तरीके से उपयोग करते हैं तो आपको जरूर जानना चाहिए की गूगल पर सर्च कैसे करे 17 बेस्ट गूगल सर्च ट्रिक्स इन हिंदी लिंक पर क्लिक करके आप हमारा वह पोस्ट पढ़ सकते हैं।

पॉडकास्ट कितना लम्बा होना चाहिए

आप एक मिनिट से लेकर तीन घंटे तक की समय सीमा में पॉडकास्ट बना सकते हैं, अगर आप किसी का इंटरव्यू लेते हैं तो यह तीस मिनिट से पैंतालीस मिनिट तक का समय ले सकता है, और यदि आप किसी विषय पर सोलो पॉडकास्ट करना चाहते हैं तो पॉडकास्ट कितना लम्बा होगा ये आपके विषय और आप उसके बारे कितनी गहराई में बताना चाहते हैं इस पर निर्भर करेगा।

समय अंतराल

जब आप नया पॉडकास्ट शुरू करते हैं या शुरुवात के समय में आप हफ्ते में एक पॉडकास्ट पब्लिश कर सकते हैं और यदि आप अपने विषय में अच्छे हैं, अनुभवी है और सहज है, और निरंतरता बनाये रख सकते हैं तो आप हर दिन पॉडकास्ट पब्लिश कर सकते हैं पर आपको कन्सिस्टेन्सी बनाकर रखनी होगी।

पॉडकास्ट और पॉडकास्ट एपिसोड में क्या अंतर है

पॉडकास्ट एपिसोड किसी एक पूरे पॉडकास्ट का एक अंश या भाग होता है जिस तरह हम टेलीविजन पर नाटकों के अलग-अलग एपिसोड होते है उसी तरह पॉडकास्ट के कई एपिसोड हो सकते हैं और उन सब एपिसोड्स से मिलकर एक पूरा पॉडकास्ट बनता हैं

यहाँ हमने अब तक podcast kya hai और उसके अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में जाना आइये अब जानते हैं कि अपना Podcast Kaise Banaye और उसके लिए किन उपकरणों(podcast ke liye jaruri equipment) के बारे में जानेंगे।

Podcast Kaise Banaye(How To Start a New Podcast)

हमारे व्यस्त जीवन में आसानी से समायोजित(adjust) हो जाने की पॉडकास्ट की काबिलियत ने इसे एक बहुत ही महत्वपूर्ण मार्केटिंग टूल बना दिया है, यह हमारे साथ घुल मिल जाता है और हमें पसंद आ जाता है, क्युकि हम इसे कहीं भी और कोई भी काम करते हुए सुन सकते हैं, पॉडकास्ट सुनना अपने आपको उसके साथ जोड़ने वाला अनुभव होता है और सुनने और सुनाने वाले के बीच एक गहरा कनेक्शन बना देता हैं।

यहाँ हम आपको बताने जा रहे हैं कि Podcast Kaise Banaye(How To Start a New Podcast) और इसके लिए हम आपको सभी जरुरी हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर और अच्छी होस्टिंग सर्विसेज के बारे में बताएंगे, ताकि आप आसान तरीके से और जल्दी अपना पॉडकास्ट बना सकें और पब्लिश कर सकें। यहाँ हम आपको सब बताएंगे जैसे माइक्रोफोन, ऑडियो रिकॉर्डिंग और एडिटिंग सॉफ्टवेयर, पब्लिशिंग सर्विसेज और सब कुछ जो आपको अपने पॉडकास्ट के लिए जरुरी होगा।

ताकि आप अपना सारा ध्यान अपना पॉडकास्ट बनाने और उसे पब्लिश करने पर लगा सको, हम यहाँ वो सभी जानकारियां और टिप्स शेयर करने वाले हैं जो हमने काफी मेहनत और रिसर्च करने के बाद पता की हैं और इस पर अपना बहुत सारा समय लगाया है, तो पोस्ट अंत तक पढ़िए क्युकी हम आपके साथ दो ऐसी पॉडकास्ट पब्लिशिंग सर्विसेज को भी शेयर करने वाले हैं जहाँ आप बिना कोई पैसा दिए अपने पॉडकास्ट को पब्लिश कर सकते हैं।

अगर आप जानना चाहतें हैं कि जीमेल अकाउंट कैसे बनाये और उनको कैसे प्रयोग करें ये जानने के लिए आप लिंक पर क्लिक करके हमारा जीमेल वाला पोस्ट पढ़ सकते हैं।

Podcast Ke Liye Jaruri Equipment(उपकरण)

पॉडकास्ट में जितना कंटेंट महत्वपूर्ण होता है उतनी ही आपकी आवाज की क्वालिटी भी महत्वपूर्ण होती है, इसीलिए यह बहुत ही जरुरी है कि आप साफ और अच्छी क्वालिटी की आवाज वाले पॉडकास्ट बनाये क्युकि श्रोता ख़राब और घटिया क्वालिटी की आवाज वाले पॉडकास्ट को सुनना बिलकुल भी पसंद नहीं करते, और यही पॉडकास्टिंग में सबसे बड़ा दुर्भाग्य है भले ही आपके पास बताने के लिए सबसे अच्छा कंटेंट क्यों न हो पर यदि आपकी ऑडियो की क्वालिटी ख़राब है तो कोई उसे गंभीरता से नहीं लेगा

तो यदि आप चाहते हैं कि लोग आपकी बात को सुने और उसे गंभीरता से लें तो पहले आपको उसके लिए गंभीर होना पड़ेगा और कुछ अच्छे उपकरणों पर पैसा लगाना पड़ेगा, तो आइये जानते हैं कि एक अच्छी क्वालिटी का पॉडकास्ट बनाने के लिए आपको किन किन उपकरणों की जरुरत होगी।

कंप्यूटर

पॉडकास्ट को रिकॉर्ड करने, उसे एडिट करने, पब्लिश करने, और बाकि सभी कामों के लिए आपको सबसे पहले एक कंप्यूटर या लैपटॉप की जरुरत होगी।

https://hinditech4u.com/

माइक्रोफोन

यहाँ हम बताएंगे की आप एक अच्छा माइक कैसे ले सकते हैं आपको पता होना चाहिए की हर तरह के माइक कुछ अलग अलग तरह के कामों के लिए बनाये जाते हैं और अलग अलग परिस्थितियों में अलग अलग बर्ताव करते हैं और यह पॉडकास्ट के लिए माइक खरीदते समय ध्यान रखने वाली बहुत ही महत्वपूर्ण बात है।

https://hinditech4u.com/

माइक खरीदने से पहले आपको माइक के बारे में दो महत्वपूर्ण बातें पता होनी चाहिए एक तो माइक किस प्रकार का है और दूसरा उसका ऑडियो पकड़ने का तरीका कैसा है। आज के समय में बाजार में दो तरह के माइक उपलब्ध हैं,

कंडेंसर माइक

कंडेंसर माइक बहुत ही अधिक संवेदनशील होते हैं और हर तरह की आवृत्तियों और ध्वनियों को पकड़ने के लिए बनाये जाते हैं ये गायक के सभी उच्च गुणवत्ता वाले स्वरों और ध्वनियों को पकड़ने के लिए बनाये जाते हैं इस तरह के माइक आप प्रोफेशनल रिकॉर्डिंग स्टूडियोज में देख सकते हैं,

अगर आप इस तरह का माइक ले आते हैं तो यह माइक हमारे घर में और बाहर की दुनिया से आने वाली सभी आवाजों जैसे बिल्ली की आवाज, गाड़ियों की आवाज, हवा की सरसराहट की आवाज सब पकड़ लेता है और आपके पॉडकास्ट की आवाज को एक अजीब सा रूप दे देता है।

इस तरह के माइक का उपयोग आवाजरोधी(साउंड प्रूफ) कमरों में किया जाता है जैसे रिकॉर्डिंग स्टूडियोज, और हमारे घर अक्सर साउंड प्रूफ नहीं होते इसीलिए इस तरह के माइक पॉडकास्टिंग के लिए उपयुक्त नहीं होते।

डायनामिक माइक

डायनामिक माइक ज्यादा मजबूत होते हैं और अधिकतर सिर्फ माइक के सामने की आवाज को ही पकड़ते हैं इस तरह के माइक आपने संगीत समारोह में गाने वाले गायकों के हाथों में देखे होंगे, हम पॉडकास्टिंग के लिए हमेशा इसी तरह के माइक उपयोग करने की सलाह देते हैं क्युकि हम जैसे अधिकांश लोगो का घर और माहौल साउंड प्रूफ नहीं होता।

ये तो हो गई माइक के टाइप की बात, दूसरी जरुरी बात जो आपको ध्यान रखनी होगी वह है माइक का pickup pattern, कि माइक किस डायरेक्शन से ऑडियो सिग्नल पकड़ता है, अगर हम इन सब बातों को एक साथ रखें तो हमारे हिसाब से जो सबसे अच्छा और किफायती माइक है जो आप खरीद सकते हैं वो है audio Technica area 2100

और हम आपको इसका सुझाव क्यों दे रहे हैं आइये जानते हैं =>

  • यह एक डायनामिक माइक है।
  • इसका pickup pattern बहुत अच्छा है मतलब यह सिर्फ माइक के सामने से आ रही आवाज पर फोकस करता है और उसे ही पड़ता है और माइक के पीछे से आ रही आवाजों को रिजेक्ट कर देता है, तो अगर आप ऐसे कमरे में हैं जो साउंड प्रूफ नहीं है और पॉडकास्ट रिकॉर्ड करना चाहते हैं तो यह सिर्फ आपकी आवाज पर फोकस करेगा ना कि कमरे में और कमरे के बहार से आ रही आवाजों पर।
  • इसकी बिल्ट क्वालिटी अच्छी है।
  • इसकी साउंड क्वालिटी बहुत ही अच्छी है।
  • इसमें तीन तरह के कनेक्टर टाइप जैसे XLR output, एक USB output, और एक 3.5 mm audio jack मिलते हैं।

अब हर माइक को अच्छी तरह से उपयोग करने और उससे सही आउटपुट लेने के लिए कुछ अतिरिक्त सामान(accessories) की जरुरत होती है यहाँ हम आपको सिर्फ उन accessories के बारे में बताएंगे जो आपके लिए आवश्यक रूप से जरुरी हैं।

हम सब इंटरनेट का उपयोग करते हैं पर यदि कोई पूछे की इंटरनेट क्या है और कैसे काम करता है तो हम उसे नहीं समझा पाएंगे इसीलिए हमने इंटरनेट पर पूरा गाइड तैयार किया है और पोस्ट लिखा है, जिसे पढ़कर आप अपनी इंटरनेट के बारे में जानकारी को बढ़ा सकते हैं।

पॉप फ़िल्टर

पॉप फ़िल्टर या पॉप शील्ड आपके माइक को आवाजें पकड़ने में एक सुरच्छा कवच की तरह काम करते हैं और बोलते समय आने वाली popping sounds जैसे ररर्र, अअअअअ, और सांसों, और हवा की सरसराहट की आवाजों को पकड़ने से बचाता है।

इसके आलावा हमारे मुँह से निकले वाले लार और थूंक के तत्वों को माइक तक पहुंचने से रोकता है जिससे हमारा माइक जल्दी ख़राब नहीं होता और सुरच्छित रहता है।

पॉप फ़िल्टर भी दो तरह के होते हैं एक तो फॉर्म पॉप फ़िल्टर होते है जो सीधे माइक पर लगा दिए जाते हैं और दूसरे पॉप शील्ड जो माइक के सामने लगाई जाती है, दोनों अच्छा काम करते हैं पर प्रैक्टिकल लाइफ में फॉर्म पॉप फ़िल्टर ज्यादा अच्छे होते हैं।

माइक्रोफोन स्टैंड

Audio Technica area 2100 और बहुत से अन्य माइक्स में एक छोटा फोल्ड करने वाला टेबल स्टैंड आता हैं हलाकि ये अच्छा काम करते हैं पर हम आपको scissors boom mic stand और एक शॉक ऑब्ज़र्वर लेने की सलाह देंगे क्युकि टेबल स्टैंड में आपकी टेबल की, माउस की, कीबोर्ड की ये सभी आवाजें स्टैंड से होकर आपके पॉडकास्ट में आ जाती हैं।

अगर आपका माइक बूम स्टैंड पर लगा रहेगा तो ये सभी समस्याएँ अपने आप खतम हो जाएगी और यदि आप इसमें शॉक आब्जर्वर लगा लेते हैं तो यह सारी समस्याओं को ख़तम कर देगा, और इसे आप अपने काम करने की जगह में कही भी घुमा सकते हैं जिससे आपका काम आसान हो जाएगा और आपका माइक सिर्फ आपकी आवाज रिकॉर्ड करेगा।

पॉडकास्ट रिकॉर्ड और एडिट करने का सबसे अच्छा और फ्री सॉफ्टवेयर

Audacity – Audacity पॉडकास्ट को रिकॉर्ड करने और एडिट करने का एक बहुत ही अच्छा ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है जिसे आप फ्री में उपयोग कर सकते हैं बहुत से पॉडकास्ट बनाने वाले अपने पॉडकास्ट को रिकॉर्ड और एडिट करने के लिए इसी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करते हैं।

आप audacity सॉफ्टवेयर को उनकी इस वेबसाइट audacityteam.org पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं, यह विंडोज, मैक, लिनक्स सभी के लिए उपलब्ध है, बस डाउनलोड कीजिए अपना माइक कनेक्ट करके अपनी सेटिंग्स कीजिए और अपना पॉडकास्ट रिकॉर्ड करना शुरू कर दीजिये।

अगर आपका कंप्यूटर या लैपटॉप स्लो चलता है या आप उसकी ख़राब परफॉरमेंस से परेशान हैं और अपने कंप्यूटर की स्पीड बढ़ाना चाहते हैं, तो आप हमारा पोस्ट कंप्यूटर की स्पीड कैसे बढ़ाएं सिस्टम को सुपरफास्ट कैसे बनायें पढ़ कर अपने कंप्यूटर को पहले जैसे फ़ास्ट बना सकते हैं।

बेस्ट पॉडकास्ट होस्टिंग फॉर बिगिनर्स

अपना पॉडकास्ट बनाने के बाद आपको अपने पॉडकास्ट को इंटरनेट पर रखने के लिए जगह की जरुरत होगी और आप जरूर चाहेंगे कि आप अपने पॉडकास्ट को अपने सर्वर या अपनी वेबसाइट पर रखें, पर इससे आपके पॉडकास्ट पर आने वाला ट्रैफिक आपकी वेबसाइट को स्लो बना सकता है,

इससे अच्छा आप अपने पॉडकास्ट को किसी अलग जगह जैसे होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर्स के पास होस्ट करे और वो आपको एक RSS लिंक भी देते हैं जिसे आप बाद में iTunes, Stitcher जैसे पॉडकास्ट सर्च इंजन में शेयर कर सकते हैं ताकि लोग आसानी से आपके पॉडकास्ट तक पहुंच सके और सुन सकें।

बेस्ट पॉडकास्ट होस्टिंग्स फॉर बिगिनर्स (paid)

  • Podbean,
  • Libsyn
  • Soundcloud

इसके अलावा भी बहुत सी paid पॉडकास्ट होस्टिंग कंपनियां है जो बहुत ही फ़ास्ट और अच्छी होस्टिंग सर्विस प्रोवाइड करती हैं और इसके लिए आपको मेरे recommendation की जरुरत नहीं है एक गूगल सर्च आपको सब बता देगा, पर मै पॉडकास्ट होस्ट करने के लिए फ्री होस्टिंग सर्विस प्रफर करता हूँ जो की बहुत अच्छा काम करती हैं, podcast.com और anchor.fm उनमे से दो बहुत ही अच्छी फ्री पॉडकास्ट होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर हैं।

ये सच में बिगिनर्स के लिए फ्री में बहुत ही अच्छी होस्टिंग प्रोवाइड करने वाली बेस्ट होस्टिंग प्रोवाइडर कंपनी हैं। आपको Lipson या Soundcloud जैसी paid होस्टिंग कंपनियों को पैसा देकर होस्टिंग लेने से पहले एक बार इन्हे जरूर try करना चाहिए।

अगर आप जानना चाहते है घर बैठे किसी के कंप्यूटर कैसे एक्सेस किया जा सकता है या अपनी बड़ी फाइल को कैसे भेज सकते हैं तो आपको जानना चाहिए कि TeamViewer Kya Hai (What Is TeamViewer)? Yah Kaise Kam Karta Hai इसके लिए आप इस लिंक पर क्लिक करके हमारा यह पोस्ट पढ़ सकते हैं।

निष्कर्ष

हमने अपने इस पोस्ट में पॉडकास्ट से जुडी सभी बातों जैसे podcast kya hai, podcasting kya hai, podcast kaise banaye, podcast ke liye jaruri equipment(upkaran), पॉडकास्ट कहाँ प्रसारित करें और भी सब कुछ कवर करने का प्रयास किया है और अगर आपको हमारा प्रयास और यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताये।

इस पोस्ट में बताई गई सभी बातें हमारे अनुभव और रिसर्च के आधार पर बताई गई है पर किसी भी काम को करने से पहले आपको अपनी रूचि और उस काम के बारे में अच्छी तरह समझ और रिसर्च कर लेना चाहिए और अगर आपको लगे की आप ये कर सकते हो और आपको रूचि हो तभी वो काम करना चाहिए।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here